गोद में 2 साल का बच्चा, परिवार की पूरी जिम्मेदारी फिर भी बन गई आईएएस

UPSC Civil Service Exam 2018 में कन्नौज की बुशरा बानो ने कायम की मिसाल

upsc bushra bano

कितना मुश्किल होता है, जब गोद में 2 साल का बच्चा हो। घर परिवार की पूरी जिम्मेदारी हो। ऐसे में सिविल सेवा जैसी देश की सबसे मुश्किल परीक्षा देकर उसमें कामयाब होना। यूपी के कन्नौज की बुशरा बानो ने ऐसी ही मिसाल कायम की है। इन सभी घर के हालात का सामना करते हुए बुशरा ने यूपीएससी-2018 एग्जाम में ऑल इंडिया 277वीं रैंक हासिल की है।

कन्नौज की रहने वाली बुशरा बानो ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कोचिंग से जुड़कर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की। बुशरा ने जूनियर हाईस्कूल की पढ़ाई सौरिख (कन्नौज) के ही सरस्वती मांटेसरी स्कूल से और हाईस्कूल, इंटरमीडिएट की पढ़ाई कस्बे के ऋषि भूमि इंटर कालेज से पूरी की। वह देवांशु समाज कल्याण महाविद्यालय से बीएससी करने के बाद एचआर फाइनेंस सहारा एंड मैनेजमेंट एकेडमी लखनऊ से एमबीए करने चली गईं। आगे की पढ़ाई अलीगढ़ में हुई।

एक वर्ष पहले बुशरा एनसीएल बीना परियोजना, सोनभद्र (उ.प्र.) में मैनेजमेंट ट्रेनिंग एचआर के पद पर कार्यरत थीं। तभी से वह सिविल सेवा परीक्षा की तैयारियों में भी जुटी हुई थीं। बुशरा बताती हैं कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से पीएचडी के दौरान ही उनकी शादी मेरठ के असमर हुसैन से हो गई, जो उन दिनो अलीगढ़ यूनिवर्सिटी से ही इंजीनियरिंग की डिग्री लेकर सऊदी अरब के एक विश्वविद्यालय में पढ़ा रहे थे। असमर मूलतः मेरठ के रहने वाले हैं। उनसे शादी के बाद वर्ष 2014 में बुशरा भी सऊदी अरब जाकर असिस्टेंट प्रोफेसर बन गईं। उसके बाद उनका जीवन तो अच्छे से बीतने लगा, दोनों लोग वहां अच्छी तरह से सेट हो चुके थे लेकिन एक बात उनके दिल-दिमाग को हमेशा आगाह करती रही कि उन्हें अपने वतन में ही कुछ बड़ा कर दिखाना चाहिए क्योंकि वे दोनो अपनी योग्यता का दूसरे मुल्क के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं, जिसका कोई फायदा उन्हे न तो आगे चलकर होने वाला है, न ही हमारे देश और सोसाइटी को। जब अपनी यह मंशा उन्होंने पति असमर हुसैन से साझा कि तो वह भी उनकी बात पर राजी हो गए। उसके बाद वह पति के साथ 2016 में सऊदी अरब से अलीगढ़ लौटकर यूपीएससी की तैयारियों में जुट गईं।

बुशरा बताती हैं कि घर का सारा काम-काज, परिवार और बच्चों की देखभाल के बीच रोजाना दस-पंद्रह घंटे यूपीएससी परीक्षा की पढ़ाई करना उनके लिए बेहद चुनौतीपूर्ण था। कोचिंग लेने का भी समय निकालना संभव न था। लोगों तो कहते हैं कि ऐसे एग्जाम की तैयारी करते समय सोशल मीडिया से दूर रहना चाहिए लेकिन उन्होंने उसे ही अपनी तैयारी का मुख्य माध्यम बना लिया। सोशल मीडिया पर उपलब्ध सामग्री के भरोसे ही वह परीक्षा की तैयारी करती रहीं लेकिन 2017 के यूपीएससी के रिजल्ट में वह असफल रहीं लेकिन वह हिम्मत नहीं हारीं। बाद में उन्हे जकात फाउंडेशन से मदद भी मिली।

एक बार फिर पहले से ज्यादा मेहनत के साथ वह दोबारा तैयारी में जुट गईं और 2018 का रिजल्ट उनके लिए खुशियों का तोहफा लेकर आया। वह कामयाबी की मिसाल बनती हुईं आईएएस चुन ली गईं। बुशरा कहती हैं कि दो साल के बेटे के साथ रहकर तैयारी करना बड़ा ही मुश्किल था, लेकिन बेटे ने उन्हे कभी उस तरह से तंग नहीं किया, जैसे आम बच्चे करते हैं। बुशरा का कहना है कि जब मन में कुछ ठान लिया तो फिर कोई काम मुश्किल नहीं है।

 

यह भी पढ़ें-

21 साल की उम्र में बन गया डीएम, कहानी पढ़कर आप भी रह जाएंगे हैरान

देश के 1000 वैज्ञानिकों को पछाड़कर इस यंग साइंटिस्ट ने पाया मुकाम

यूपी में जज बनी दून की वैशाली यादव

पिता ने सड़क पर चाय बेचकर पढ़ाया, बेटे ने नाम कमाया

इस लड़की को एक कंपनी से मिला 26.21 लाख का पैकेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *